Saturday, 1 July 2017

मैंगो कस्टर्ड रेसिपी- 2june


मैंगो कस्टर्ड रेसिपी-
पके आम, वनीला कस्टर्ड पाउडर, क्रीम से बना तथा ताजे फलों से सजा मैंगो कस्टर्ड, स्वाद में बेहतरीन और दिखने में आकर्षक भी.
आवश्यक सामग्री -
पके आम - 2 (600 ग्राम)
वनीला कस्टर्ड पाउडर - 2 टेबल स्पून (20 ग्राम)
चीनी - ½ कप (100 ग्राम)
अंगूर - ½ कप
अनार - ½ कप
ताजा क्रीम - 1 कप (200 ग्राम)
काजू - ¼ कप (बारीक कटे हुए)
बादाम - 8-10
पिस्ते - 15-20
दूध - ½ लीटर
विधि -
कस्टर्ड बनाने के लिए 3-4 टेबल स्पून कच्चा दूध प्याली में निकाल लीजिए और बाकी दूध को किसी बर्तन में उबलने के लिये रख दीजिये, प्याली में निकाले हुए दूध में कस्टर्ड पाउडर डालकर अच्छी तरह तब तक घोलिए जब तक कि कस्टर्ड की गुठलियां खत्म ना हो जाएं.
दूध में उबाल आने पर गैस मीडियम कर दीजिए और कस्टर्ड घोल डालते जाइये, और दूध को चमचे से चलाते जाइये, सारा कस्टर्ड घोल डालकर अच्छी तरह मिक्स कर दीजिये. कस्टर्ड को दूध के साथ लगातार चलाते हुये, 6- 7 मिनिट तक गाढ़ा होने तक पका लीजिए. ध्यान रखें कि इसमें किसी प्रकार की गुठलियां न बने और ये कढ़ाही के तले पर भी न लगे.
6 मिनिट हो जाने के बाद गैस बंद कर दीजिए और कढ़ाही को गैस पर से उतारकर जाली स्टैंड पर रख दीजिए और इसे ठंडा होने दीजिए, लेकिन इसे बीच-बीच में चलाते भी रहें ताकि इसके ऊपर परत न जम पाए और चिकना कस्टर्ड बनकर तैयार हो पाए.
आम को छीलकर टुकड़ों में काटकर रख लीजिए. आम के पल्प को थोडा़ बारीक और थोडा़ बड़ा दोनों साईज के टुकड़ों में काट लीजिए. बड़े आम के टुकड़ों को पल्प बनाने के लिए उपयोग किया जाएगा और छोटे आम के टुकड़ों को कस्टर्ड में डालने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा.
आम काटने के बाद, अंगूर के ऊपरी भाग का काला हिस्सा हटाकर इसे दो टुकड़े करते हुए काट लीजिए.
1 बादाम को 7-8 टुकड़े करते हुए काट लीजिए और सारे बादाम इसी तरह काटकर तैयार कर लीजिए. पिस्ते को भी बादाम की तरह छोटा-छोटा काटकर तैयार कर लीजिए.
आम के बड़े कटे टुकड़ों को मिक्सर जार में डाल दीजिए और चीनी को भी जार में डाल दीजिए और प्यूरी बना लीजिए.
क्रीम व्हिप कीजिए-
क्रीम को मथने के लिए इस तरह के 2 प्याले लीजिये कि एक प्याले के अन्दर दूसरा प्याला आ जाय. बड़े प्याले में 1 ट्रे बर्फ के टुकड़े डाल दीजिए और छोटा प्याला बर्फ के ऊपर रखिए. उसमें फ्रिज से निकाली हुई ठंडी हैवी क्रीम डालिए. इलेक्ट्रिक ब्लेन्डर से क्रीम को व्हिप कीजिए. पहले स्पीड 1 पर रख कर 1-2 मिनिट के लिए व्हिप कीजिए. फिर 2 पर 2 मिनिट के लिए व्हिप कीजिए और फिर 5 पर इसे 2 मिनिट के लिए और व्हिप कीजिए. कुल 6 मिनिट में क्रीम गाढ़ी होकर तैयार है. कस्टर्ड के लिए क्रीम अधिक गाढ़ी नहीं करनी होती है.
सामग्री कस्टर्ड में मिक्स कीजिए-
कस्टर्ड के लिए सबसे पहले मैंगो चीनी का पेस्ट और क्रीम डालकर अच्छे से मिला दीजिए और एक बार ब्लेंडर की सहायता से भी इसे अच्छे से मिक्स कर लीजिए. कस्टर्ड मिश्रण बनकर तैयार है.
कस्टर्ड को सर्व करने के लिए छोटी-छोटी प्याली लीजिए. इनमें पहले आधा कस्टर्ड डालिए. फिर इसमें बारीक कटे हुए आम के टुकड़े, थोड़े से अंगूर के टुकड़े और अनार डाल दीजिए. फिर, इसमें कटे हुए काजू, बादाम और पिस्ते डाल दीजिए.
बचे हुए कस्टर्ड के मिश्रण को बड़े प्याले में निकाल लीजिए और इस पर भी कटे हुए आम के टुकड़े, अंगूर, अनार और ड्राय फ्रूट भी डाल दीजिए. इन सभी प्यालों को फ्रीजर में 1 घंटे के लिए रख दीजिए. उसके बाद फ्रीजर से निकालकर स्वादिष्ट ठंडा-ठंडा मैंगो कस्टर्ड सर्व कीजिए.
6-8 सदस्यों के लिए पर्याप्त
सुझाव
कस्टर्ड में फ्रूट आप अपनी पसंद का ले सकते हैं. आप इसमें किवी या स्ट्राबेरी भी उपयोग कर सकते हैं
क्रीम को इलेक्ट्रिक ब्लेंडर से व्हिप किया गया है. आप इसे हैंड ब्लेंडर से या फिर हाथों से भी मथ सकते हैं.
क्रीम को बहुत ज्यादा गाढा़ नहीं करना है।
मिर्ची और मेथी दाने की सब्ज़ी-
मेथी दाने का कढ़वा स्वाद कम ही लोगों को पसंद आता है, लेकिन आज की हमारी विशेष पेशकश मिर्च और मेथी दाने की चटपटी सब्जी का अनोखा ज़ायका तीखे के शौकीनों को खास भाएगा.
आवश्यक सामग्री -
हरी मिर्च- 100 ग्राम
मेथी- 2 टेबल स्पून (भीगे हुए)
तेल- 2 टेबल स्पून
जीरा- ½ छोटी चम्मच
हींग- 1 पिंच
धनिया पाउडर- 1 छोटी चम्मच
सौंफ पाउडर- 1 छोटी चम्मच
हल्दी पाउडर- ¼ छोटी चम्मच
अमचूर- ½ छोटी चम्मच
नमक- ½ छोटी चम्मच या स्वादानुसार
विधि:-
मेथी को अच्छे से धोकर 4 घंटे के लिए पानी में भिगोकर रख दीजिए. इसके बाद इसमें से अतिरिक्त पानी हटाकर ले लीजिए.
हरी मिर्च को भी अच्छे से धोकर साफ करके इसके डंठल हटा दीजिए और छोटा-छोटा काटकर तैयार कर लीजिए.
पैन में तेल डालकर गरम कीजिए. तेल गरम होने पर इसमें जीरा डाल दीजिए. जीरा चटख जाने पर हींग, हल्दी पाउडर, धनिया पाउडर, सौंफ पाउडर डालकर बारीक कटी हुई हरी मिर्च डालकर अच्छे से मिक्स कीजिए. फिर, इसमें नमक और अमचूर डाल दीजिए. सभी चीजों को मिलने तक मिला लीजिए.
मिर्च को ढककर 2 मिनिट धीमी आंच पर पकने दीजिए. इसके बाद इसे चैक कीजिए. 2 मिनिट बाद मिर्च को अच्छे से चला दीजिए और इसमें भीगे हुए मेथी दाने डालकर मिक्स कीजिए. इसे फिर से 2 मिनिट के लिए ढका ही पकने दीजिए और बाद में चैक कीजिए.
मेथी मिर्च बनकर तैयार है. आप इसे अच्छे से चला दीजिए और गैस बंद कर दीजिए. मेथी मिर्च को प्लेट में निकाल लीजिए. चटपटी-तीखी मेथी मिर्च को खाने में साईड डिश के रूप में सर्व कीजिए. आपको इनका टेस्ट बहुत पसंद आएगा. मेथी मिर्च को फ्रिज में रखकर 1 सप्ताह तक आराम से खाया जा सकता है.
चमचम जैसे मीठे ब्रेड रोल-एकदम नवीन और भिन्न किस्म का बेहद लज़ीज़ मिष्ठान्न चमचम जैसे मीठे ब्रेड रोल, किसी भी पार्टी या शुभ अवसर पर बनाकर मेहमानों को खिलाएं और पाएं ढेरों प्रशंसा.
आवश्यक सामग्री -
ब्रेड - 8 
मावा - 150 ग्राम
चीनी - 1 कप (250 ग्राम)
दूध - 1 कप
चीनी पाउडर- ¼ कप (40 ग्राम)
नारियल बुरादा - ¼ कप
इलायची - 4
बादाम - 7 से 8
काजू - 7 से 8
पिस्ते - 10 से 12 (बारीक कटे हुए)
आरेंज फूड कलर - ½ पिंच से थोडा़ कम
घी - चमचम तलने के लिए
विधि -
ब्रेड चमचम बनाने के लिए पहले कुछ तैयारियां कर लीजिए
ब्रेड के किनारे का गहरे रंग का हिस्सा चाकू की सहायता से काटकर अलग कर लीजिए. सारे ब्रेड के किनारे काटकर हटा लीजिए. काजू को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर तैयार कर लीजिए, बादाम को भी छोटा-छोटा काट लीजिए. इलायची को छीलकर इसके बीजों का पाउडर बना लीजिए.
चाशनी तैयार कीजिए
चाशनी के लिए एक बर्तन ले लीजिए. इसमें चीनी और आधा कप पानी डालकर गैस पर रख दीजिए. चाशनी को चीनी घुलने तक पकने दीजिए. चाशनी को बीच-बीच में चमचे से चलाते रहिए.
चाशनी चैक कीजिए
चाशनी को दो तरीकों से चैक किया जा सकता है. पहले तरीके से चाशनी चैक करने के लिए चमचे से चाशनी को गिराते हुए देखिए कि चाशनी में तार बन रहा है या नहीं. जब आखिरी बूंद चाशनी की चमचे से गिरती है तो वो लम्बे तार को बनाते हुए गिरती है, चाशनी बनकर तैयार है.
अन्य तरीके से चैक करने के लिए चाशनी को किसी प्याली में निकालिए. इसके ठंडी होने के बाद, उंगली और अंगूठे के बीच चिपकाइए, चाशनी में 1 तार बन रहा हो तो, चाशनी बनकर तैयार है, गैस बन्द कर दीजिए. बर्तन को गैस पर से उतार कर जाली स्टैंड पर रख दीजिए.
स्टफिंग तैयार कीजिए
पैन को गैस पर रखकर गरम कीजिए. इसमें क्रम्बल किया हुआ मावा डाल दीजिए और लगातार चलाते हुए मावा के हल्का सा रंग बदलने और अच्छी खुश्बू आने तक इसे भून लीजिए. मावा भूनने के बाद इसमें फूड कलर डालकर अच्छे से मिक्स कर दीजिए और मावा को प्याले में निकाल लीजिए.
मावा में कटे हुए कजू-बादाम और इलायची पाउडर डालकर अच्छे से मिक्स कर दीजिए. मावा के हल्का सा गरम रहने पर इसमें पाउडर चीनी डालकर मिक्स कर दीजिए. स्टफिंग बनकर तैयार है. स्टफिंग को आठ भागों में बांटकर छोटे-छोटे गोले बनाकर तैयार कर लीजिए.
ब्रेड में स्टफिंग रखिए
एक प्लेट मे थोडा़ दूध ले लीजिए और एक ब्रेड को दूध में डुबाकर निकाल लीजिए, दूध में भीगी हुई ब्रेड को हथेली पर रखिए. दूसरी हथेली से दबाकर ब्रेड का दूध निकाल दीजिए. इसके ऊपर स्टफिंग रख दीजिए और ब्रेड को मोड़ दीजिए और चारों ओर से अच्छी तरह दबाकर चमचम का आकार देकर स्टफिंग को बन्द कर दीजिए. इस तरह सारी स्टफिंग एक-एक ब्रेड में डालकर तैयार करके चमचम बनाकर प्लेट में लगाकर रख लीजिए.
चमचम तलिए
चमचम तलने के लिए कढ़ाही में तेल डालकर गरम कीजिए, तेल के अच्छा गरम होने पर तैयार रोल उठाइए और गरम तेल में डालिए. रोल को कलछी से पलट-पलट कर गोल्डन ब्राउन होने तक तलिए और आग को मीडियम-हाई ही रखिए. तले हुए गोले को कलछी पर रखकर कुछ देर कढ़ाही के ऊपर रखिए ताकि अतिरिक्त तेल कढ़ाही में वापस चला जाए. गोले को प्लेट में निकाल लीजिए.
चमचम चाशनी में डालिए
चमचम के लिए जो चाशनी बनाई है, अगर वो ठंडी होकर जम गई है तो उसे एक बार फिर से गरम करके ले लीजिए. इन गरम-गरम गोलों को चाशनी में डाल दीजिए और थोडी देर बाद प्लेट में निकाल लीजिए. इसी तरह सारे गोले तलकर चाशनी में डालकर थोडी़ देर बाद निकाल लीजिए.
चमचम को नारियल के पाउडर में लपेटकर प्लेट में रख दीजिए और सारी चमचम नारियल पाउडर में लपेटकर प्लेट में रखते जाएं.
चमचम बनकर तैयार है. चमचम को बीच में से काटकर इसके ऊपर पिस्ते डालकर इसे गार्निश कीजिए. चाशनी में डूबी मीठी स्वादिष्ट ब्रेड चमचम बनकर तैयार है आप इसे परोसिए और खाइए. ब्रेड चमचम को फ्रिज में रखकर 3-4 दिनों तक आराम से खाया जा सकता है.
सुझाव
चीनी को गरम मावा में नहीं डालें क्योंकि गरम मावा में चीनी डालने से मावा पिघल जाता है और स्टफिंग पतली बनकर तैयार होती है
चमचम तलने के लिए घी अच्छा गरम होना चाहिए. घी अगर अच्छा गरम न हो तो चमचम तेल को अपने अंदर सोख लेंगे.
चाशनी 1 तार की बनाकर तैयार करनी है. अगर चाशनी पतली होगी तो चमचम नरम बनकर तैयार होंगे और अगर चाशनी गाढी हुई तो चमचम में चाशनी अच्छे से समा नहीं पाएगी और चमचम मीठे नहीं बनेंगे.

चना दाल और दाल मोठ

चना दाल और दालमोठ नमकीन-
दाल को भिगोकर, तलकर तैयार होने वाली बहुत ही क्रिस्पी चना दाल नमकीन और दालमोठ. एक बार बनाकर किसी भी डिब्बे में भरकर रखिए और पूरे 2 माह तक चाय, काफी के साथ लीजिए या यूंही मज़े से खाइए.
आवश्यक सामग्री -
चना दाल- 1 कप (200 ग्राम)
मसूर दाल- 1 कप (200 ग्राम)
नमक- ½ छोटी चम्मच
काला नमक- ½ छोटी चम्मच
अमचूर- ½ छोटी चम्मच
काली मिर्च पाउडर- ½ छोटी चम्मच
लाल मिर्च पाउडर- ½ छोटी चम्मच
भुना जीरा पाउडर- ½ छोटी चम्मच
बेकिंग सोडा- 1 छोटी चम्मच
विधि -
दाल भिगोइए
चने की दाल और मसूर की दाल दोनों को अलग-अलग साफ करके पानी से अच्छे से 2 बार धो लीजिए और दोनों दालों को अलग-अलग बर्तन में पानी भरकर अच्छे से डुबाकर 5 से 6 घंटे के लिए भिगो दीजिए. साथ ही, प्रत्येक दाल में ½ छोटी चम्मच बेकिंग सोडा डालकर मिक्स कर दीजिए.
6 घंटे बाद, दाल से पानी निकालकर इन्हें अच्छे से धोकर छलनी से छानकर सारा पानी निकाल दीजिए और कपड़े से पौंछकर ले लीजिए. दाल में बिल्कुल भी पानी नही रहना चाहिए.
दाल तलिए
कढ़ाही में तेल डालकर गरम कीजिए. तेल की गर्माहट चैक करने के लिए, कढ़ाही के थोड़ा ऊपर हाथ ले जाकर देखिए, हाथ पर गर्माहट लग रही है, तो तेल अच्छे से गरम है. गरम तेल में दाल डाल दीजिए और दाल को कलछी से थोड़ा सा चला दीजिए, तेल में झाग बनने लगेगे. जब तेल से झाग खत्म हो जाएं और दाल तेल के ऊपर तैरकर आ जाए, तब दाल तलकर तैयार है. दाल को कलछी से उठाकर कढ़ाही के ऊपर ही गहरी छलनी में निकाल लीजिए. इससे दाल से अतिरिक्त तेल कढ़ाही में ही वापस चला जाएगा.
छलनी को किसी प्याले पर थोड़ी देर रखिए ताकि बचा हुआ तेल उस प्याले में चला जाए. इसी तरह बची हुई दाल भी फ्राय कर लीजिए. तेल निचुड़ जाने के बाद, छलनी वाली दाल को एक प्याले में निकाल लीजिए.
चने की दाल तलने के बाद, मसूर की दाल कढ़ाही में डाल दीजिए. जैसे चने की दाल को फ्राय किया गया था, बिल्कुल उसी तरह इस दाल को भी फ्राय कर लीजिए और छलनी पर निकालकर रख लीजिए. दाल को छलनी में उछालकर देखें, तो इसमें छनछन की आवाज आती है, यानिकि दाल क्रिस्पी तैयार है. एक बार की दाल तलने में 5 से 6 मिनिट लगते हैं. दूसरी दालमोठ को भी अलग प्याले में निकाल लीजिए.
मसाले मिलाइए
एक प्याले में नमक, काला नमक, अमचूर, काली मिर्च पाउडर, लाल मिर्च पाउडर और भुना जीरा पाउडर डाल दीजिए. सारे मसालों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए. फिर, आधा-आधा मसाला दोनों दालों में डाल दीजिए. दोनों दालों में मसालों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए.
दालों की एकदम क्रन्ची नमकीन तैयार है. नमकीन के पूरी तरह ठंडा होने के बाद किसी भी कन्टेनर में भरकर रख सकते हैं और पूरे 2 महीने तक खा सकते हैं.
सुझाव
दालों को भिगोते समय बेकिंग सोडा ज़रूर डालें. अगर बेकिंग सोडा नही डालेंगे, तो नमकीन सख्त बनेंगी.
दालों को तलने के लिए गहरी कढ़ाही लें और तेल कढ़ाही में आधे से भी कम होना चाहिए क्योंकि दाल तलने के बाद ऊपर आती है. तेल के झाग ऊपर तक आते हैं. अगर कढ़ाही छोटी होगी, तो तेल के झाग बाहर फैल जाएंगे. इसलिए सावधानी बरतें.
दाल तलने के लिए तेल बहुत अच्छा गरम होना चाहिए.
दाल से पानी बहुत अच्छे से पौंछ दें. हाथ से दाल छूने पर पानी बिल्कुल भी नही लगना चाहिए. आप चाहे, तो दाल को सूती कपड़े पर बिछाकर आधे घंटे के लिए सुखा लीजिए.
आप दालमोठ में अपने स्वादानुसार लाल मिर्च पाउडर कम या ज्यादा डाल सकते हैं.
चने की दाल और मसूर की दाल की नमकीन की तरह ही मूंग की दाल की नमकीन भी बना सकते हैं.

आम की फिरनी

आम की फिरनी बनाने की विधि-पिसे चावल से बनी फिरनी को आम के साथ एक नए फ्लेवर में बनाया जाए, तो यह एकदम अलग ज़ायके का बहुत ही बेहतरीन डेजर्ट बन जाता ह, जिसे आप ठंडा या गरम जैसे चाहे खा सकते हैं.
आवश्यक सामग्री -
दूध - 500 मि.ली.
पके आम - 2 (500 ग्राम)
भीगे चावल - ¼ कप 50 ग्राम
चीनी - ¼ कप (50 ग्राम)
इलायची पाउडर - 4
पिस्ते - 10-12 (बारीक कटे हुए)
बादाम - 10 (बारीक कटे हुए)
काजू - 10 (बारीक कटे हुए)
विधि -
फिरनी बनाने के लिए सबसे पहले चावलों को अच्छे से साफ करके धोकर साफ पानी में 1 घंटे के लिए भिगोकर रख दीजिए. 1 घंटे बाद भीगे हुए चावलों से अतिरिक्त पानी हटा कर चावलों को मिक्सर जार में डाल दीजिए. साथ में 2 टेबल स्पून पानी डालकर इनको दरदरा पीस लीजिए.
आम को छीलकर थोड़े छोटे और थोड़े से बड़े दोनों साइज के टुकड़ों में काट लीजिए. बड़े आम के टुकड़ों को पल्प बनाने के लिए उपयोग किया जाएगा और छोटे आम के टुकड़ों को फिरनी में ऊपर से डालने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा. आम के बड़े टुकड़ों को मिक्सर जार में डालकर पेस्ट बना लीजिए.
दूध को गरम करने के लिए गैस पर रखिए और उबाल आने दीजिए. दूध में उबाल आने पर इसमें दरदरे पिसे हुए चावल डाल दीजिए और इसे लगातार चलाते हुए तब तक पकाएं जब तक कि दूध में फिर से उबाल न आ जाए और इसमें गुठलियां न पड़ें. दूध में उबाल आने पर गैस को धीमा कर दीजिए. अब फिरनी को हर 1 से 2 मिनिट में चलाते रहिए.
चावल लगभग 10 मिनिट में पककर तैयार हो गए हैं. इसमें चीनी, बारीक कटे हुए काजू और बादाम डालकर मिक्स कर दीजिए. गैस बंद कर दीजिए और इस मिश्रण में मैंगो पल्प डालकर मिला दीजिए और साथ ही इलायची पाउडर डालकर अच्छे से मिक्स कर दीजिए.
फिरनी को जाली स्टैंड पर रख दीजिए और थोड़ा सा ठंडा होने दीजिए. फिरनी के हल्का ठंडा होने पर इसे प्यालों में निकाल लीजिए और इसके ऊपर थोड़े से कटे हुए आम के टुकड़े डाल दीजिए और थोड़े से बारीक कटे हुए काजू, बादाम और पिस्ते डालकर इसे सजा दीजिए. इन प्यालों को फ्रिज में रख दीजिए और आधे घंटे बाद इसे फ्रिज से निकालकर ठंडा-ठंडा परोसिये, आपको इसका स्वाद बहुत ही पसंद आएगा. इतनी फिरनी परिवार के 6 से 7 लोगों के लिए पर्याप्त रहेगी.
सुझाव-
फिरनी बनाने के लिए बासमती टुकडा़ या छोटा चावल बहुत अच्छे रहते हैं.
दूध में चावल डालकर गैस धीमा कर दीजिए और फिरनी को लगातार चलाते हुए पकाएं ताकि फिरनी बरतन के तले पर न लगे.
फिरनी के लिए अल्फांजों या दशहरी जैसे बिना रेशे वाले आम ही उपयोग में लाएं.
फिरनी को सर्दी के मौसम में गरमागरम परोसें और गर्मी के मौसम में ठंडा-ठंडा सर्व करें.

सादा परांठा

सादा पराठा (त्रिकोण आकार के जीरा के स्वाद वाले पराठे) गेहूं के आटे से बनते हैं और आम तौर पर हर रोज के खाने में सब्जी के साथ या सुबह के नाश्ते में चाय के साथ परोसे जाते हैं। वैसे तो आलू, गोबी, पनीर, आदि की भराई वाले कई सारे भरवा परांठे बनाये जाते हैं लेकिन यह बेसिक पराठा है। अगर आपको खाना पकाने का बहुत अनुभव नहीं है तो आप इस स्टेप बाय स्टेप रेसिपी का पालन करके आसानी से यह पराठे घर पर बना सकते हैं।
पूर्व तैयारियों का समय: 15 मिनट
पकाने का समय: 15 मिनट
कितने लोगो के लिए: 2 (6 परांठे)
सामग्री:
1 ¼ कप (आटा के लिए) + 1/2 कप (बेलने के लिए) गेहूं का आटा
1 टीस्पून जीरा
2 टीस्पून तेल + पराठा सेकने के लिए
1/2 कप पानी
नमक
बटर (मक्खन), परोसने के लिए
विधि :-
आटा गूंथने के लिए एक परात में 1¼ कप गेहूं का आटा, 1 टीस्पून जीरा, 1 टीस्पून तेल और नमक ले।
उन्हें अच्छे से मिला ले और ज़रूरत के अनुसार पानी डाले (एक समय में 1 या 2 टेबलस्पून, कुल लगभग 1/2 कप जितना, या जरुरत के अनुसार कम या ज्यादा) और चपाती के आटे की तरह नरम आटा गूंथ लें। आटे की सतह को 1 टीस्पून तेल लगाकर चिकना कर लें और उसे ढक कर 10 मिनट के लिए सेट होने दें।
एक छोटी प्लेट में बेलने के लिए ½ कप सूखा आटा लें। आटे को फिर से गूंध ले। उसे 6 बराबर भागों में बांट लें और प्रत्येक भाग को एक गोल आकार (छोटे बॉल की तरह) दे। एक आटा की गेंद ले और उसे अपनी हथेलियों के बीच या के चकले के ऊपर रखकर दबाये। उसे सूखे आटे से लपेट कर चकले के ऊपर रखें।
उसे बेलन की मदद से लगभग 4-5 इंच व्यास के गोल आकार में (छोटी पूरी की तरह) बेल लें।
उसकी सतह पर तेल लगा दें और थोड़ा सूखा आटा छिड़के और मोड़ कर अर्ध गोल बना दें। फिर से उसके ऊपर तेल लगा दें और थोड़ा सूखा आटा छिड़के और मोड़ कर त्रिकोण बना दें।
उसे सूखे आटे से लपेट ले और लगभग 6 इंच लंबी बाजू वाले त्रिकोण आकार में बेल ले। यह फुल्का रोटी की तुलना में थोड़ा मोटा लेकिन तंदूरी रोटी/ नान की तुलना में थोड़ा पतला होना चाहिए।
एक तवे को मध्यम आंच पर गर्म करें। जब तवा मध्यम गरम हो तब उसके ऊपर कच्चा पराठा रखें। जब उसकी सतह पर छोटे बुलबुले दिखने लगे तब उसे पलट दें और आंच को कम कर दें।
उसकी सतह पर समान रूप से 1/2 टीस्पून तेल लगा दें और लगभग 30 से 40 सेकंड के लिए पकने दें।
आंच को मध्यम कर दे। इसे फिर से पलटें और दूसरी तरफ भी समान रूप से 1/2 टीस्पून तेल लगा दें और लगभग 30 से 40 सेकंड के लिए पकने दें। चमचे से उसे हल्के से दबाये और 30-40 सेकंड के लिए मध्यम आंच पर पकने दें। उसे जरूरत के अनुसार पलटे और जब तक दोनों तरफ हलके सुनहरे भूरे रंग के धब्बे दिखाई देते हैं तब तक पकाईये।
उसे एक प्लेट में निकालें और उसके ऊपर मक्खन लगा दें। बाकी बचे आटे में से भी इसी तरह पराठे बना लें। इसे दही और अचार के साथ या अपनी पसंद की पनीर की सब्जी के साथ खाने में परोसे।

राजिस्थानी चूरमा बाटी

चूरमा एक पारंपरिक राजस्थानी मिठाई है जो आम तौर पर दाल-बाटी के साथ परोसा जाता है। इसे बनाने के लिए तली हुई या सेकी हुई बाटी को मिक्सी में पीसा जाता है और फिर उसको पिघला हुआ घी, चीनी और सूखे मेवे के साथ मिलाकर चूरमा बनाया जाता है। चूरमा बनाने के लिए बाटी और दाल बाटी के लिए बाटी, दोनों एक ही तरह से बनाई जाती है। सिर्फ चूरमा की बाटी में नमक नहीं डलता है। बाटी या तो ओवन या तंदूर में सेकी जाती है या तली जाती है। इस रेसिपी का पालन करके चूरमा बनाते है।
पूर्व तैयारियों का समय: 20 मिनट
पकाने का समय: 35 मिनट
कितने लोगो के लिए:3
सामग्री:
1/2 कप गेहूं का आटा
2 टेबलस्पून रवा (सूजी)
2 टेबलस्पून घी या तेल (आटा के लिए)
दूध या पानी, जरुरत के अनुसार (आटा गूंधने के लिए)
3 टेबलस्पून पिघला हुआ घी (चूरमा के लिए)
1/4 कप पाउडर चीनी (पिसी हुई चीनी)
2 टेबलस्पून कटे हुए सूखे मेवे, सजाने के लिए
विधि:-
बाटी बनाने की विस्तृत विधि तस्वीरों के साथ देखने के लिए यह राजस्थानी बाटी पकाने की विधि (रेसिपी) का पालन करें। – एक परात में गेहूं का आटा, रवा, और 2 टेबलस्पून घी लें। सभी सामग्री को अच्छी तरह से मिला लें। थोड़ा थोड़ा करके दूध या पानी डालें और सख्त आटा गूंध ले। 10 मिनट के लिए आटे को ढककर सेट होने के लिए रख दें। उसे 4 बराबर भागों में बाँट ले और गोल आकार दें। प्रत्येक आटे के गोले को अपनी हथेलियों के बीच दबाकर समतल करें।
ओवन के बिना बाटी कैसे बनाये? – कच्ची बाटी को तेल में मध्यम आंच पर हल्के सुनहरे भूरे रंग की होने तक और बाहर से खस्ता होने तक तले। या ओवन में बाटी कैसे सेके? – ओवन को 190 डिग्री सेल्सियस (375 डिग्री फारेनहाइट) पर प्रिहीट करें। बेकिंग ट्रे में कच्ची बाटी रखे और ट्रे को ओवन में रखें। उन्हें 12-15 मिनट के लिए 190 डिग्री सेल्सियस (375 डिग्री फारेनहाइट) पर सिकने दे। ओवन में से बेकिंग ट्रे बाहर निकाले, बाटी को पलटे और ट्रे फिर से ओवन में रखें। जब तक ऊपर की और नीचे की सतह हल्के सुनहरे भूरे रंग की हो जाये तब तक सिकने दे, इसमें लगभग 10-12 मिनट का समय लगेगा। उन्हें ओवन में से निकालें और 10 मिनट के लिए ठंडा होने दें। बाटी तैयार है।

अपने हाथ से बाटी को छोटे टुकड़ों में तोड़े और उन्हें मिक्सर ग्राइंडर के छोटे जार में डालें।
उन्हें बारीक़ पीस लें।
उसे एक बड़े कटोरे में निकाले और 1/4 कप चीनी का पाउडर (पिसी हुई चीनी) और 3 टेबलस्पून पिघला हुआ घी डालें।
अच्छी तरह से मिला लें और अगर जरूरत हो तो मिठास के लिए अधिक चीनी डालें और मिश्रण को अच्छी तरह से मिला लें। चूरमा को सूखे मेवे से सजाये और दाल बाटी के साथ परोसें।

दाल फ्राई

दाल फ्राई पंजाब में बहुत लोकप्रिय है जिसे विविध तरह की दाल जैसे की तूर दाल, चना दाल, मूंग दाल और मसूर की दाल को मिलाकर बनाया जाता है। आप चाहें तो इसे सिर्फ चने और तूर की दाल से भी बना सकते है। इस रेसिपी में सभी दाल को साथ में प्रेशर कुकर में उबालकर, घी में भुने भारतीय मसालों के साथ पकाया गया है। घी में भुने मसालों की वजह से इसकी सुगंध और भी अच्छी आती है। दाल फ्राई को जीरा राइस और पापड़ के साथ दोपहर या रात के खाने में परोसा जाता है।
पूर्व तैयारियों का समय: 10 मिनट
पकाने का समय: 25 मिनट
कितने लोगों के लिए: 2
सामग्री:
4 टेबलस्पून तूर दाल (तूवर दाल/ अरहर दाल)
3 टेबलस्पून चना दाल
3 टेबलस्पून मूंग दाल
3 टेबलस्पून मसूर दाल
11/2 कप + 3/4 कप पानी
1 मीडियम साइज टमाटर, बारीक कटा हुआ
1 बड़ा प्याज, बारीक कटा हुआ
4 लहसुन की कलियाँ, पीसी हुई
1/2 इंच अदरक, पीसा हुआ
2 हरी मिर्च, बारीक कटी हुई
2 टेबलस्पून घी
3 लौंग
1 दालचीनी, 2 टुकड़ों में कटी हुई
1/2 टीस्पून जीरा
2 सुखी लाल मिर्च
1/4 टीस्पून गरम मसाला पाउडर
1/4 टीस्पून हल्दी पाउडर
1/2 टीस्पून लाल मिर्च पाउडर
1 टीस्पून धनिया पाउडर
1 टीस्पून निम्बू का रस
नमक, स्वादानुसार
2 टेबलस्पून बारीक कटा हुआ हरा धनिया
विधि :-
सभी दाल को मिलाकर अच्छी तरह से पानी में धो ले और 10 मिनट के लिए पानी में भिगो कर रख दीजिये। 10 मिनट के बाद अधिक पानी निकालकर दाल के मिश्रण को प्रेशर कुकर (3-5 लीटर) में डाल दीजिये।
नमक और 11/2 कप पानी डालकर कुकर का ढक्कन बंध कर दीजिये और उसे तेज़ आँच पर पकने के लिए रखिये। पहली सीटी बज जाने के बाद आँच को मध्यम कर दीजिये और 3 सीटियाँ बजने तक पकाइए।
प्रेशर कुकर का ढक्कन तुरंत मत खोलिये। उसे 7-8 मिनट के लिए ठंडा पड़ने दीजिये या तो प्रेशर कुकर का प्रेशर अपने आप निकल जाने दीजिये। यह प्रक्रिया सुरक्षा के लिए भी आवश्यक है और इससे दाल भी अच्छे से पकती है। अब कुकर का ढक्कन खोलकर बाजू में रख दीजिये। दाल को मसलने या पिसने की ज़रुरत नहीं है। जरूरत पड़ने पर इस दाल का उपयोग कीजिये।
अब तड़का तैयार कर लीजिये। एक कडाही में मध्यम आँच पर घी गरम कीजिये। जीरा, सुखी लाल मिर्च, दालचीनी और लौंग डाल दीजिये। वह तड़कने लग जाए तब प्याज डालकर कलछी से चलाते हुए उसे हलका भूरे रंग का होने तक भूनिए, इसमें लगभग 1 मिनट लगेगा।
पीसा हुआ अदरक, लहसुन और बारीक कटी हुई हरी मिर्च डालकर 20-30 सेकंड के लिए भूनिए।
बारीक कटे हुए टमाटर और नमक डालकर तब तक पकाइए जब तक टमाटर नरम न पड़ जाए।
गरम मसला, धनिया पाउडर, लाल मिर्च पाउडर और हल्दी पाउडर डालकर अच्छे से मिला लीजिये। उबली हुई दाल डालकर एक मिनट के लिए पकाइए।
निम्बू का रस और 3/4 कप पानी डालकर मध्यम आँच पर 4-5 मिनट के लिए पकाइए। बीच-बीच में कलछी से चलाते रहिये।
गैस बंद करके दाल को सर्विंग बाउल में निकाल लीजिये और बारीक कटे हुए हरे धनिये से सजाकर परोसिये।

कश्मीरी दम आलू रेसिपी

कश्मीरी दम आलू उत्तर भारत में व्यापक रूप से पसंद की जाने वाली सब्जी है जिसमे आलू को दही और मसालों से बनायी हुई ग्रेवी में पकाया जाता है। इस आसान रेसिपी के साथ परम्परागत ढंग से कश्मीरी दम आलू बनाना सीखिए।
पूर्व तैयारियों का समय: 20 मिनट
पकाने का समय: 30 मिनट
कितने लोगों के लिए: 4
सामग्री:
12 छोटे आलू
11/2 कप दही (खट्टा नहीं)
4 सुखी कश्मीरी लाल मिर्च, बीज निकालनेके बाद पीसी हुई
1 टीस्पून कद्दूकस किया हुआ अदरक (या 1/2 टीस्पून सोंठ का पाउडर)
1 टीस्पून पीसा हुआ लहसुन
1 टेबलस्पून काजू का पाउडर
1/3 टीस्पून हरी इलायची का पाउडर
1/3 टीस्पून हरी इलायची का पाउडर
1/3 टीस्पून जीरा पाउडर
1 टीस्पून धनिया पाउडर
1 तेजपत्ता, टुकडो में कटा हुआ
1 चुटकी हींग
1/4 टीस्पून हल्दी पाउडर
1/2 टीस्पून गरम मसाला पाउडर
1 टेबलस्पून बारीक कटा हुआ ताज़ा हरा धनिया (यदि आप चाहें)
4 टेबलस्पून + तलने के लिए तेल
नमक, स्वादानुसार
1/3 कप पानी
विधि :-
छोटे आलूओं को छीलकर उनमे कांटे से छेद कर दीजिये। अगर आपके पास छोटे आलू न हो तो बड़े आलूओं को बड़े टुकड़ों में काटकर उनमे छेद कर दीजिये. उन्हें नमक वाले पानी में 15 मिनट के लिए भिगोकर रखिये।
एक कड़ाही में तलने के लिए तेल गरम कीजिये। आलू में से अधिक पानी छानकर उन्हें एक कपडे से पोछ लीजिये और मध्यम आँच पर हल्का भूरा होने तक तलने के बाद उन्हें एक प्लेट में निकाल लीजिये।
एक छोटे कटोरे में दही, कश्मीरी लाल मिर्च पाउडर, अदरक, लहसुन, काजू का पाउडर, सौंफ का पाउडर, इलायची पाउडर, जीरा पाउडर और धनिया पाउडर डालकर चम्मच या तो कलछी को तेज़ चलाते हुए अच्छी तरह मिला लीजिये। इससे सारे मसालों का स्वाद अच्छी तरह घुल-मिल जाएगा।
एक दूसरी कड़ाही में 4 टेबलस्पून तेल गरम करने के बाद तेजपत्ता और हींग डालकर 30 सेकंड के लिए भूनिए।
1/3 कप पानी, नमक और हल्दी पाउडर डाल दीजिये।
जब मिश्रण में उबाल आ जाए तब उसमे मसालेदार दही (स्टेप-3 में बनाया हुआ) डालकर अच्छे से मिला दीजिये।
जब उबलना शुरू हो जाए तब तले हुए आलू और गरम मसाला डाल दीजिये।
मध्यम आँच पर मिश्रण को तब तक पकाइए जब तक आलू ग्रेवी को सोख न ले। जब तेल सतह पर आ जाए तब गैस बंद कर दीजिये।
कश्मीरी दम आलू को एक सर्विंग बाउल में निकालिए और हरे धनिये से सजाकर परोसिये।

दाल ढोकली

दाल ढोकली एक परम्परागत गुजराती रेसिपी है जिसे मुख्य तौर पर दाल और गेहूं के आटे से बनाया जाता है। ज़रा सी मीठी और मसालेदार इस रेसिपी को बनाने के लिए ढोकली के टुकड़ों को थोड़ी सी गाढ़ी दाल में पकाया जाता है। दाल में डाले गए मसालों और कुरकुरे मूंगफली के दानो की वजह से दाल ढोकली का स्वाद और भी बढ़ जाता है। यह रेसिपी बनाने में आसान तो है ही, साथ में पौष्टिक भी है और इसे खाने में अकेला परोसा जाए तो भी पेट भर जाता है।
पूर्व तैयारियों का समय: 15 मिनट
पकाने का समय: 25 मिनट
कूल समय: 40 मिनट
कितने लोगों के लिए: 4
सामग्री:
1/2 कप तूवर दाल (अरहर दाल)
3 टेबलस्पून मूंगफली
1/2 कप गेहूं का आटा + छिड़कने के लिए
1/2 टीस्पून अजवाइन (यदि आप चाहें)
1 टेबलस्पून बेसन
1/4 टीस्पून + 1/4 टीस्पून हल्दी पाउडर
1/2 टीस्पून + 1/2 टीस्पून लाल मिर्च पाउडर
1/2 टीस्पून धनिया पाउडर
1/2 टीस्पून राई
1 टीस्पून जीरा
एक चुटकी हींग
1 सुखी लाल मिर्च, 2 टुकड़ों में बटी हुई
8-10 कडीपत्ता
3 टीस्पून निम्बू का रस
2-21/2 टीस्पून चीनी
3 टीस्पून तेल
11/2 कप + 3 कप पानी
नमक, स्वादानुसार
2 टेबलस्पून बारीक कटा हुआ हरा धनिया, सजावट के लिए
विधि :-
तूवर दाल को पानी से धोकर 3/4 लीटर वाले स्टील या एल्युमीनियम के प्रेशर कुकर में 11/2 कप पानी और नमक के साथ डालिए। एक छोटी कटोरी में मूंगफली लीजिये और उसे कुकर में दाल के ऊपर रखिये। कूकर का ढक्कन बंद करके 3 सीटी बजने तक मध्यम आँच पर दाल को उबलने दीजिये। कुकर को गैस पर से हटाकर प्रेशर खत्म होने तक लगभग 5-7 मिनट के लिए रहने दीजिये।
जब दाल पक रही हो, उसी दौरान ढोकली के लिए आटा तैयार कर लीजिये। एक चौड़े मुह वाले बर्तन में 1/2 कप गेहूं का आटा, बेसन, अजवाइन, 1/4 टीस्पून हल्दी पाउडर, 1/2 टीस्पून लाल मिर्च पाउडर, 1/2 टीस्पून धनिया पाउडर, 1 टीस्पून तेल और नमक लीजिये। थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पानी डालते हुए पराठे के आटे जैसा मुलायम आटा गूंथ लीजिये। एक कपडे से ढंककर आटे को 10 मिनट के लिए रहने दीजिये।
कुकर का ढक्कन खोलकर उसमे से मूंगफली की कटोरी निकाल लीजिये।
दाल को एक बड़े बाउल में निकाल लीजिये या फिर कुकर में ही ब्लेंडर की मदद से पीस लीजिये। 2 कप पानी डालकर 5-10 सेकंड के लिए दाल को वापस पीस लीजिये।
एक बड़ी कडाही में 2 टीस्पून तेल गरम करके उसमे राई डालिए। जब राई फूटने लग जाए तब जीरा, हींग, सुखी लाल मिर्च और कड़ीपत्ता डालकर जीरे को तड़कने दीजिये। 1/4 टीस्पून हल्दी पाउडर और 1/2 टीस्पून लाल मिर्च पाउडर डालकर अच्छे से मिला लीजिये।
पीसी हुई दाल, 1 कप पानी, उबली हुई मूंगफली, निम्बू का रस, चीनी और नमक डालकर मध्यम आँच पर उबलने दीजिये। जब मिश्रण उबलने लगे तब आँच को धीमा कर दीजिये और 5-7 मिनट के लिए पकने दीजिये।
इस दौरान आटे को 4 समान भागों में बाँटकर उनकी गोल लोइयां बना लीजिये। एक थाली या कटोरी में आधा कप जितना सुखा गेहूँ का आटा लीजिये। अब एक लोई लेकर उसे सूखे गेहूँ के आटे से लपेट लीजिये और चकला-बेलन की मदद से 7-8 इंच व्यास की पतली रोटी बेल लीजिये। इसी तरह बाकी बची लोइयां की भी रोटीयाँ बेल लीजिये।
एक रोटी को चकले पर लेकर उसको चाकू या कटर की मदद से छोटे-छोटे चौकोर टुकडो में काट लीजिये। ये टुकड़े ढोकली के नाम से पहचाने जाते है।
आँच को मध्यम कर दीजिये और ढोकली को (एक बार में 12-14 टुकड़े) उबलती हुई दाल में डालकर 1-2 मिनट के लिए पकाइए। 1-2 मिनट बाद बाकी बची ढोकली में से 12-14 टुकड़े डाल दीजिये। बीच-बीच में कलछी से चलाते रहिये।
इसी प्रक्रिया से बाकी बची रोटीयों की ढोकली बना लीजिये और दाल में डाल दीजिये। सारी ढोकली को दाल में डालने के बाद तब तक पकाइए जब तक ढोकली पक न जाए। इसमें लगभग 8-10 मिनट लगेंगे। बीच-बीच में दाल को कलछी से चलाना मत भूलिए।
गैस बंद करके दाल ढोकली को एक सर्विंग बाउल में निकाल लीजिये और हरे धनिये से सजाकर गरमा गरम परोसिये।

चटपटा मैसुर रस्म

लोकप्रिय मैसूर रसम तीखे, खट्टे और हल्का मीठे स्वाद के संयोजन वाला एक पारंपरिक व्यंजन है। गुड, इमली और नारियल के दूध की वजह से रसम का स्वाद हल्का सा मीठा और खट्टा हो जाता है जबकी रसम पाउडर उसे मसालेदार और सुगन्धित बनाता है। इस रेसिपी में रसम के स्वाद को बढ़ाने के लिए ताज़े पीसे हुए सूखे मसालों का उपयोग किया गया है।
कुल समय: 35 मिनट
पूर्व तैयारियों का समय: 5 मिनट
पकाने का समय: 30 मिनट
कितने लोगों के लिए: 2
सामग्री:
रसम पाउडर के लिए
1 टेबलस्पून चना दाल
1 टेबलस्पून धनिये के बीज
1 टेबलस्पून जीरा
1/2 टीस्पून काली मिर्च
1 सुखी लाल मिर्च, 2 हिस्सों में कटी हुई
1 टीस्पून तेल
रसम के लिए
1/4 कप तूअर की दाल (अरहर दाल)
3 टेबलस्पून कद्दूकस किया हुआ ताज़ा नारियल
1/2 टेबलस्पून बीजरहित इमली
2 छोटे टमाटर, बारीक कटे हुए
1 चुटकी हल्दी पाउडर
1 टेबलस्पून गुड़
2 टेबलस्पून बारीक कटा हुआ हरा धनिया
नमक, स्वादानुसार
तड़का लगाने के लिए
1/2 टेबलस्पून तेल
1/2 टीस्पून राई
1/2 टीस्पून जीरा
1 सुखी लाल मिर्च, 2 हिस्सों में कटी हुई
1/8 टीस्पून हींग
5-6 कड़ी पत्ता
रसम पाउडर बनाने की विधि:
एक कडाही में 1 टीस्पून तेल गरम कीजिये। चना दाल, धनिये के बीज, जीरा, काली मिर्च और सुखी लाल मिर्च डालकर धीमी आँच पर हल्की महक आने तक भूनिए। इसमें लगभग 1-2 मिनट लगेंगे। उन्हें एक थाली में निकालकर 4-5 मिनट के लिए ठंडा होने दीजिये।
भुने हुए मसालों को मिक्सी में डालकर बारीक पीस लीजिये। रसम पाउडर तैयार है।
रसम बनाने की विधि:-
तूअर की दाल को अच्छे से धो कर उसे 3/4 कप पानी के साथ 3-4 लीटर वाले एल्युमीनियम के प्रेशर कुकर में मध्यम आँच पर 3 सीटियाँ बजने तक पकाइए। जब तक भाप न निकल जाए तब तक कुकर को लगभग 5-7 मिनट के लिए बंद रहने दें। अब ढक्कन खोलकर उसे बाजू में रख दीजिये और दाल को कलछी की मदद से मसल लीजिये।
इसी दौरान नारियल का दूध बना लीजिये। नारियल का दूध बनाने के लिए कद्दूकस किये हुए नारियल को लगभग 3 टेबलस्पून गरम पानी के साथ मिक्सर ग्राइंडर में बारीक पीस लीजिये और उसे छन्नी से छानकर एक छोटी कटोरी में निकाल लीजिये।
इमली को 1/2 कप गरम पानी में 4-5 मिनट के लिए भिगो दीजिये। इमली का रस निकालने के लिए उसे चम्मच या हाथ से मसलकर छन्नी में से एक छोटी कटोरी में छान लीजिये। बाकी बचे ठोस अवशेष को फेंक दीजिये।
एक कडाही में इमली का रस, बारीक कटे हुए टमाटर, हल्दी पाउडर, गुड़ और नमक डालकर मध्यम आँच पर उबाल आने तक पकाइए।
जब वह उबलना शुरू हो जाए तब आँच को धीमी कीजिये और उसे कच्ची इमली की खुशबू चले जाने तक पकाइए, लगभग 4-5 मिनट के लिए पकाइए।
कुकर में उबली हुई तुअर दाल, रसम पाउडर (स्टेप-2 में बनाया हुआ) और 11/2 कप पानी डालिए।
मिश्रण को अच्छे से मिलाकर मध्यम आँच पर तब तक पकाइए जब तक उसमे झाग बनने नहीं लग जाता। इसमें लगभग 3-4 मिनट लगेंगे।
इसी दौरान तड़का तैयार कर लीजिये। एक छोटी कड़ाही में 1/2 टेबलस्पून तेल गरम कीजिये और उसमे राई डालिए। जब राई फूटने लग जाए तब जीरा, सुखी लाल मिर्च, कड़ी पत्ता और हींग डालकर 10-20 सेकंड के लिए भूनिए। कड़ाही को गैस पर से हटाकर तडके को पकी हुई दाल के ऊपर डाल दीजिये।
नारियल का दूध (स्टेप 4 में बनाया हुआ) डालकर अच्छे से मिलाइए और गैस बंद कर दीजिये।
रसम को एक बड़े कटोरे में निकालिए और हरे धनिये से सजाकर परोसिये।

पंचरत्न दाल

पंचमेल दाल या पंचरतन दाल एक स्वादिष्ट राजस्थानी दाल है जो पांच तरह की प्रोटीन युक्त दालों जैसे कि मूंग की दाल, चना दाल, तूर दाल, मसूर की दाल और उड़द की दाल को साथ में मिला के बनायीं जाती है। यह दाल लोकप्रिय राजस्थानी व्यंजन बाटी और चूरमा के साथ परोसी जाती है। इसे बाटी के अलावा पराठा या रोटी और सब्जी के साथ भी परोसा जा सकता है। तो आइये इस विधि (रेसिपी) का पालन करके दाल कैसे बनाई जाती है वो सीखते है।
पूर्व तैयारियों का समय: 30 मिनट
पकाने का समय: 35 मिनट
कितने लोगो के लिए: 2
सामग्री:
2 टेबलस्पून साबुत मूंग या मूंग की दाल
2 टेबलस्पून चना दाल
2 टेबलस्पून तूर दल (अरहर की दाल)
2 टेबलस्पून उड़द की दाल
2 टेबलस्पून मसूर दाल
1/2 टीस्पून जीरा
एक चुटकी हींग
2-3 लौंग
4-5 काली मिर्च, वैकल्पिक
1 साबुत सूखी लाल मिर्च, आधा कर लें
1 हरी इलायची
1 टीस्पून बारीक कटा हुआ अदरक
1 हरी मिर्च, लंबाई में काट लें, वैकल्पिक
1 मध्यम टमाटर, बारीक कटा हुआ
1/2 टीस्पून धनिया पाउडर
1/4 टीस्पून हल्दी पाउडर
1/2 टीस्पून अमचूर पाउडर
1/2 टीस्पून लाल मिर्च पाउडर
2 टेबलस्पून घी या तेल
3 टेबलस्पून बारीक कटा हुआ हरा धनिया
नमक स्वाद अनुसार
विधि:-
साबुत मूंग, चना दाल, तूर दाल, उड़द दाल और मसूर की दाल को पानी से धो ले और उन्हें एक साथ 30-40 मिनट के लिए पानी में भिगो दें। दाल में से अतिरक्त पानी निकाल दे और उसे 3-4 लीटर की क्षमता वाले एक एल्यूमीनियम / स्टील प्रेशर कुकर में डालें। 1½ कप पानी और नमक डालें और उन्हें मध्यम आंच पर 4-सीटियां होने तक पकने दें। गैस बंद कर दें। जब कुकर का प्रेशर ख़त्म हो जाये तब ढक्कन खोलें। दाल को चमचे से थोड़ा मैश कर लें।
एक कड़ाही में मध्यम आंच पर घी गर्म करें। उसमे जीरा डालें। जब जीरा सुनहरा होने लगे तब हींग, लौंग, काली मिर्च, सूखी लाल मिर्च, हरी इलायची, अदरक और हरी मिर्च डालें और 30-40 सेकंड के लिए भूने।
बारीक़ कटा हुआ टमाटर डालें और उसे नरम होने तक भूने।
धनिया पाउडर, हल्दी पाउडर, अमचूर पाउडर और लाल मिर्च पाउडर डालें। अच्छी तरह से मिला लें और एक मिनट के लिए भूने।
उबली हुई दाल डालें और अच्छी तरह से मिला लें। मिश्रण को 2 मिनट के लिए पकने दें।
1 कप पानी डालें और अच्छे से मिला लें। इसे दाल गाढ़ी हो जाने तक पकाइये। इसमें लगभग 7-8 मिनट का समय लगेगा।
दाल को चखे और अगर जरुरत लगे तो नमक डालें। बारीक कटा हुआ हरा धनिया डालें और अच्छी तरह से मिला लें। गैस बंद कर दें। दाल को एक परोसने के कटोरे में निकाले और राजस्थानी बाटी के साथ परोसें।

सेव उसल

सेव उसल एक मसालेदार गुजराती नाश्ता है जिसे रगड़े के ऊपर उबले हुए आलू, छिला हुआ गाजर, कटा हुआ प्याज़ और ढेर सारी सेव डालकर बनाया जाता है। ऊपर से डाली हरी चटनी, खट्टी-मीठी इमली की चटनी और तीखी लहसुन की चटनी की वजह से इसका स्वाद और भी बढ़ जाता है। रगडा को मटर और भारतीय मसालों के मिश्रण से तैयार किया जाता है।
पूर्व तैयारियों का समय: 25 मिनट
पकाने का समय: 25 मिनट
कितने लोगों के लिए: 4
सामग्री:
रगडा रेसिपी की सारी सामग्री
2 मीडियम साइज के उबले हुए आलू, छिलका निकालकर कटे हुए
2 मीडियम साइज प्याज़, बारीक कटा हुआ
1/4 कप कसा हुआ गाजर
1/4 कप कसा हुआ चुकंदर
2 टेबलस्पून बारीक कटा हुआ हरा धनिया
1 कप सेव
1/3 कप हरे धनिये की चटनी
1/2 कप मीठी चटनी (खजूर-इमली की चटनी)
2 टेबलस्पून लहसुन की चटनी (यदि आप चाहें)
विधि (Sev Usal Banane Ki Vidhi Hindi Me):
इस रेसिपी में दिये हुए तरीके से रगडा तैयार कर लीजिये।
चटनी की रेसिपी के मुताबिक सब चटनियाँ तैयार कर लीजिये और 2 टेबलस्पून लहसुन की चटनी को 1 टेबलस्पून पानी में मिलाकर उसका घोल बना लीजिये।
गरम रगड़े को सर्विंग प्लेट में निकालकर उसके ऊपर कटे हुए 2 टेबलस्पून आलू और 2 टेबलस्पून प्याज़ डालिये।
ऊपर से 1 टेबलस्पून कसा चुकंदर और 1 टेबलस्पून गाजर डाल डालिये।
1 टेबलस्पून हरे धनिये की चटनी, 2 टेबलस्पून मीठी चटनी और 1/2 टेबलस्पून लहसुन की चटनी डालिये।
सेव (आप जितनी चाहें उतनी सेव का उपयोग कर सकते है) और हरे धनिये से सजाकर तुरंत परोसिये।

पनीर बनाये

अगर आप को कभी सब्जी बनाने के लिए पनीर की जरुरत पड़ी और पनीर दुकान में नहीं मिला तो आप घर पर ही बड़ी सरलता से पनीर बना सकते है और उसे बनाने के लिए सिर्फ दूध और नींबू ही चाहिये। घर पर पनीर बनाने के लिये इन में से किसी एक को (- नींबू का रस, छाछ, विनेगर (सिरका), साइट्रिक एसिड (या पनीर बनाने के बाद जो पानी बचता है वो)) उबलते हुए दूध में धीरे धीरे डाले जिससे की दूध फट जाये और बाद में उसे मलमल के कपडे में छानकर किसी भारी वस्तु के नीचे रखे। हमने इस रेसिपी में नींबू के रस का उपयोग किया है क्योंकि यह बड़ी ही आसानी से मिल जाता है।

पूर्व तैयारियों का समय: 50 मिनट
पकाने का समय: 15 मिनट
कितने लोगो के लिए: 450 ग्राम
सामग्री
2 लीटर फूल फेट दूध (फूल क्रीम दूध)
1/4 कप नींबू का रस
आवश्यक बर्तन:
छन्नी
सादा मलमल का कपडा
ओखली (खरल) की तरह भारी वस्तु
थाली
विधि :-
एक पतीले में मध्यम आंच पर 2 लीटर दूध उबालने रखे।
जब दूध में उबाल आ जाये तब आंच को कम कर दे। धीरे-धीरे नींबू का रस (एक समय पे 1 टीस्पून जितना) डाले और धीरे से चम्मच से दूध को हिलाते रहिये।
दूध फटने लगेगा और उसमें से पानी और छैना (पनीर) अलग होने लगेगा।
जब सारा दूध फट जाये (जब पानी और छैना अलग हो जाये) तब गैस बंद कर दें।
एक बड़े बर्तन में बड़ी छन्नी रखे। उसके ऊपर साफ मलमल का कपडा रख दे और उस पर फटा हुआ दूध डाले। छैना(पनीर) ऊपर रह जायेगा और सारा पानी निकल जायेगा। आप इस पानी का उपयोग पराठे का आटा गूंथने के लिए या तो सब्जी बनाते समय कर सकते हैं। छैना (पनीर) में से नींबू का खट्टापन निकालने के लिए उसके उपर ठंडे पानी के 2-3 गिलास डालो।
कपडे को सभी किनारो से ऊपर की तरफ उठाइये और पोटली जैसा बनाकर अतिरिक्त पानी निकालने के लिए निचोड़ दे। पोटली को बंध कर दे और उसे पलटी हुई थाली या किसी भी समतल सतह पर रख दे (उसे एक बड़ी थाली में रखे ताकि सारा पानी उसमे जमा हो)। इसके उपर भारी वस्तु जैसे की ओखली (या भारी डिब्बा) रखे। उसे 40-45 मिनट के लिए दबाव के नीचे रखें।
भारी वस्तु को हटा दे।
बंध मलमल के कपड़े खोलें। आपको दिखेगा कि पनीर का एक बड़ा गोल आकार का स्लैब तैयार हो गया है।
उसे अपने पसंद के आकार में काटे और सब्जी बनाने के लिए इसका इस्तेमाल करे। आप उसे एक डिब्बे में या तो ज़िप लॉक बैग में पैक करके 3-4 दिनों के लिए रेफ्रिजरेटर या एक महीने के लिए फ्रीजर में रख सकते हैं।

No comments:

Post a comment

राजशाही सेवईं

राजशाही सेवईं  ========== आवश्यक सामग्री : सेंवई_Sewai – 250 ग्राम, शक्कर_Sugar – 500 ग्राम, नारियल_Coconut – 100 ग्राम (भ...